सच्चा प्यार क्या होता है? प्यार से जुड़ी 10 समस्याएं -Sacha Pyaar Kya Hota Hai – Pyaar se Jude Samasya

सच्चा प्यार क्या होता है ? प्यार जुड़ी 10 समस्याएं -Sacha Pyaar Kya Hota Hai - Pyaar se Jude Samasya

Published by CoupleThinking | 31 january 2021

सच्चा प्यार क्या होता है यह तो हर कोई जानना चाहता है मगर कुछ ही जोड़ियां इसे समझ पाती है। एक रिश्ते की शुरुआत कैसे होती है यह मायने नहीं रखता मायने यह रखता है एक रिश्ते में कितनी भी कठिनाई होते हुए आप रिश्ते को बनाए रखते हैं।

हर रिश्ते में समय के साथ बदलाव होते रहते हैं जितना ज्यादा वक्त आपको साथ में होगा इतना ज्यादा बदलाव आपके रिश्ते में होगा।

 

sacha pyar kya hota hai

कभी-कभी यह बदलाव आपके लिए अच्छे हो सकते हैं या फिर बुरे हो सकते हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि आपका प्यार खत्म हो गया है बल्कि यह आपके रिश्ते के नए से रूप है।

हां , हम COUPLETHINKING आपको यह बात स्पष्ट करना चाहते हैं कि यह हमारे विचार हैं और यह विचार दूसरों से अलग हो सकते हैं|

सच्चा प्यार क्या होता है उससे जुड़ी कुछ ऐसी ही समस्याएं लाए हैं जो कि आमतौर पर हर रिश्ते में होती है अगर आप इन समस्याओं का समाधान कर लेते हैं तो आप सच्चा प्यार को अच्छे से समझ सकते हैं।

1..विश्वास एक संवेदनशील मुद्दा है

हर रिश्ता विश्वास पर टिका होता है बिना विश्वास कोई रिश्ता नहीं बनता है। मगर यही विश्वास बहुत नाजुक होता है जोकि बहुत आसानी से टूट जाता है। उसकी कोई भी वजह हो सकती है।
COUPLETHINKING की सलाह
विश्वास जरूर नाजुक होता है मगर आप कुछ चीजों का ध्यान रख सकते हैं जिससे ये टूटे ना। आप हर उस गलती को माप सकते हैं जिसकी वजह से आपका विश्वास टूटा हो। और आप अपने आप से एक सवाल पूछ सकते हैं। क्या वह गलती कितनी बड़ी है जिससे मेरा विश्वास टूट जाए।

2..ज्यादा साथ रहने से उब जाते हैं

Designed by Freepik
Banner vector created by pch.vector - www.freepik.com

हां हम ऐसे सपने जरूर लेते हैं जिसमें हम हर चीज साथ में करते हैं और कभी भी एक दूसरे से उबते नहीं है।

मगर असली जिंदगी में इसका उलट होता है जहां पर हमें किताबें पढ़ना या फिर अपने दोस्तों से मिलना ज्यादा बेहतर लगता है बजाएं अपने साथी से मिलना।

क्योंकि हम एक ऐसे वातावरण में रहने लगते हैं जहां पर कुछ भी नया नहीं है इसीलिए हम बहुत उबाऊ हो जाते हैं । इसका मतलब यह नहीं है कि आप में प्यार नहीं है बल्कि कुछ समय की दूरी होती है जिसके बाद आप खुद करीब आ जाते हैं।

3..हमेशा आपके एक मत नहीं होंगे

हां शुरुआती सालों में आपने बहुत से फैसले एक साथ लिए होंगे क्योंकि शुरुआत में आप रिश्तो को मजबूत बनाना चाहते हैं और एक दूसरे को दर्द नहीं देना चाहते हैं।

मगर जैसे जैसे आपका रिश्ता आगे बढ़ता है आप के फैसलों में अंतर आने लगता है। जिसकी वजह कुछ भी हो सकती है। 

इससे आपको दिक्कत जरूर होगी मगर इसका हल गुस्से से नहीं निकलेगा आपको साथ बैठकर इसका हल निकालना पड़ेगा।

4..विवाह और बच्चों की चुनौतियां

ज्यादातर व्यक्ति यह सोचते हैं कि शादी और बच्चों के बाद उनका रिश्ता ओर बेहतर होगा। मगर ऐसा होता नहीं है बल्कि इसके उलट रिश्ता और मुश्किल हो जाता है। हमें यह समझना चाहिए माता-पिता बनना आसान काम नहीं है।

जिसमें मुसीबतें आएंगी मगर आपको उन मुसीबतों से सीख लेनी है और रिश्ते को ओर बेहतर बनाना है। जिसके लिए आप अपने कामों को बांट सकते हैं जिससे आप बेहतर ढंग से विवाह और बच्चों को संभाल सके

5..आप हमेशा एक दूसरे के लिए आकर्षित नहीं रहेंगे

हर रिश्ते की शुरुआत में एक दूसरे के बीच  बहुत आकर्षण होता है मगर जैसे-जैसे रिश्ता आगे बढ़ता जाता है आपका आकर्षण कम होता जाता है। जो कि आपके लिए समस्या पैदा कर सकता है। मगर इसका मतलब यह नहीं है कि आपके बीच प्यार नहीं है या फिर आपको साथ नहीं होना चाहिए।

बल्कि इसके उलट आपको यह सोचना चाहिए कि आप इस समस्या को कैसे हल कर सकते हैं।

जैसे कि आप एक दूसरे से कुछ ऐसी अनुरोध कर सकते हैं जिससे आपका आकर्षण बड़े।

6..अकेला महसूस होना

हमें लगता है रिश्तों में होना मतलब कभी अकेलापन ना होना होता है मगर ऐसा नहीं है। क्योंकि रिश्ता में नोकझोंक होती रहती है जिससे हम अकेले पड़ जाते हैं हमें लगता है हमें कोई प्यार नहीं करता है ना ही समझता है।

मगर ऐसा नहीं है क्योंकि रिश्तो में ऐसा होता रहता है जिसे हमें अपना लेना चाहिए। ना कि रिश्ते को तोड़ देना चाहिए।

रिश्ता तोड़ने से आपको ही ज्यादा दुख होगा जोकि छोटी मोटी नोकझोंक से मुकाबला बहुत ज्यादा दुख होगा।

7..अजीब ख्याल आना

ajib khyaal aana
सच्चा प्यार क्या होता है ? - Sacha Pyaar Kya Hota Hai

क्या मैं तलाक ले लूं या फिर मेरी जिंदगी किसी और के साथ बेहतर होती ऐसे ही विचार आपके मन में आते होंगे।

जब आप अकेले हो या फिर रात में।

जो की गलत बात नहीं है क्योंकि वह सिर्फ आपकी विचार है

COUPLETHINKING की सलाह

ऐसी विचार अपने साथी के साथ साझा ना करें क्योंकि यह सिर्फ आपके विचार हैं ना कि आप की सोच।

8..समय के साथ रिश्ता कमजोर होता है

रिश्ते समय समय  बदलते रहते हैं कभी कभी आपको आपका रिश्ता बहुत ही मजबूत लगेगा आप दोनों में बहुत प्यार होगा और कभी ऐसा लगेगा यह रिश्ता है ही क्यों।

इसका मतलब यह नहीं है कि आप में प्यार नहीं है बल्कि यह कुछ परिस्थितियों की वजह से होता है। जोकि रिश्तो के आयाम होते हैं जिससे हमेशा बचाना चाहिए ना कि रिश्तो को तोड़ देना चाहिए।

9..एक दूसरे को कष्ट देना

जिसे आप सबसे ज्यादा चाहते हैं वही आपको सबसे ज्यादा कष्ट देता है। क्योंकि आप उसे बहुत चाहते हैं। इसी के उलट आपका साथी भी यही करता है।

नगर इसका मतलब यह नहीं है कि वह आपको प्यार नहीं करता बल्कि बहुत से कारणों की वजह से यह हो सकता है जैसे काम का तनाव या किसी से झगड़ा।

जिसका हल आप बातचीत कर कर निकाल सकते हैं ना कि अलग होकर।

10..प्यार अपने आप नहीं बच सकता

प्यार बस एक शब्द नहीं है बल्कि यह प्रयास है जिससे आप अपने साथी के लिए करते हैं। क्योंकि आप उससे दूर नहीं होना चाहते हैं। इसलिए प्यार को बचाना के लिए आपको ही प्रयास करने होंगे। ऐसा नहीं हो सकता कि आप लड़ाई भी करें और प्यार भी।

सच्चा प्यार क्या होता है ? – Sacha Pyaar Kya Hota Hai

Share WIth Your Friends

Tags:

3 thoughts on “सच्चा प्यार क्या होता है? प्यार से जुड़ी 10 समस्याएं -Sacha Pyaar Kya Hota Hai – Pyaar se Jude Samasya”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *